Indira awas yojana का शुरुआत 1985 में भारत का तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के द्वारा किया गया था.

Indira awas yojana शुरुआत इसीलिए किया गया था ताकि भारत में रहने वाले सारे अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोग के लिए अपना खुद का घर बनाने के लिए सहायक होगा.

Indira awas yojana तहत भारत में रहने वाले सारे अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति यानी कि गरीब सीमा रेखा से नीचे रहने वाले लोगों के लिए बहुत मददगार साबित हो सकता है.

यह योजना के तहत अगर आप नए घर निर्माण के लिए यह योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको 70 से  75000 तक की धनराशि मिलने वाला है.

अगर आपको लिया हुआ पैसा से आपका घर बनाने में दिक्कत आता है तो आप भारत सरकार से ज्यादा पैसा भी ले सकते हैं. इसके लिए आपको लोन लेना पड़ेगा.

अगर आपको भारत सरकार से ज्यादा पैसों के लिए लोन लेते हैं तो आपका जानकारी के लिए आपको मैं बता दूं आपको चलाना 4% का ब्याज पर लोन मिलने वाला है.

अगर आपको आपका घर निर्माण करने में  ज्यादा पैसा का जरूरत होता है तो आप भारत सरकार से 20000 तक की लोन ले सकते हैं.

 अगर आप BPL धारी यानी कि गरीब सीमा रेखा के नीचे रहने वाले हैं तो आपकी जानकारी के लिए आपको मैं बता दूं कि आप यह योजना का लाभ उठा सकते हैं.

यह योजना को आवेदन करने के लिए आपको कोई भी ऑनलाइन सुविधा नहीं दिया गया है, इसके लिए आपको सरकारी दफ्तर में जाके इसको आवेदन करना पड़ेगा.

इस योजना के सारे जानकारी आपको नीचे दिया गया बटन पर क्लिक करने से मिल जाएगा.क्लिक करके आप सारे जानकारी ले सकते हैं.